फ़िटनेस - healthhunt

6 Ways To Keep Your Family Healthy Through The Cold And Flu Season

Cough, throat infection, flu, and fever - the inevitable evils of climate changes. These tips will help you stay safe during the cold and flu season, even if one member of your family has caught the bug.

(English) Health Benefits Of A Beach Holiday

(English) Beach holidays have never felt so legit. Believe me, we all need one, but don’t tell human resources we said that.

(English) 12 Ways To Optimise Your Digestion

(English) The simplest of things can make a world of difference.

What’s That: Ectopic Pregnancy

The worst part about ectopic pregnancies is that most cases don’t get diagnosed on time, posing a threat to pregnant women, and resulting in the termination of the pregnancy.

(English) 6 Warning Signs Of Cervical Cancer

(English) In India, cervical cancer is the second most common cancer among women between 15 and 44 years of age.

Amazing Health Benefits of Coriander Oil

The oil also increases appetite, regulates secretion of various hormones in the body, and relieves nausea. Although coriander oil is very safe to use, moderation should be the key. Excessive use can cause drowsiness and other unwanted side effects.

Here Comes The Sun: Here’s Why Sun Salutations Should Be A Part Of Your Daily Workout

From helping to burn up to 420 calories in just 30 minutes, to ensuring complete mental wellbeing. You name it, and surya namaskar would have it covered.

(English) 6 Ways To Stay Motivated While Losing Weight

(English) Smooth paths seldom lead you to your #BodyGoals. Weight loss is a journey, where roads are rocky.

(English) 7 Tips To Stay Healthy And Fit

(English) Good habits take time to build, which is why you must not take your body for granted in your 20s. You may not see the benefits now, but you will thank us a decade later.

(English) 6 Ways To Achieve An Age-Proof, Younger-Looking Neck

(English) It’s always the neck that starts getting all crepe-y first.

Re-Lax Powder for Constipation

Ayurvedic Powder for Relief from Constipation, Acidity and Gastric issues

All Natural Relax - Pack of 6

To get Calm & Relax! All Cherry & Berry + Chamomile

All Natural Recharge - Pack of 6

Get Boosted with Energy! All Tropical Fruits + Green Tea, Ginseng, Stevia

Nutcase - Energy Bar

A crunchy, nutty blend of Amaranth, heart healthy almonds, with apricots, golden raisins, dates , flax seeds and oats all mixed with the natural goodness of honey with a dash of organic coconut oil.

Choco Tango - Energy Bar

Choco Tango is a zesty mixture of Almonds, Chocolate, Black Currants, Crisped Rice, Orange Peel and Chia Seeds bound in honey and oats for a snack that satisfies from the first bite till the very last.

Berrylicious - Energy Bar

Berrylicious is a zesty mixture of golden raisins, red cranberries, black currants, flax seeds, sunflower seeds and white chocolate bound in honey and oats for a snack that satisfies from the first bite till the very last.

Le Chocolat - Energy Bar

Le Chocolat is made of dark chocolate, sun kissed California almonds, walnuts and oats mixed with the natural goodness of honey.

Sutatva Hair Tonic

With the goodness of Spirulina, Bhringaraj, Jaswand, and many other magical herbs, our hair tonic is nature's best care for your lovely tresses.

Gotu Kola powder

Gotu Kola ( Mandukparnee) powder

Gotu Kola (Mandukparnee)

Gotu Kola ( Mandukparnee) powder

Shankhpushpi

Convolvulus pluricaulis plant powder

Shankhpushpi Powder

Convolvulus pluricaulis plant powder

Shankhpushpihills

Shankhpushpi extract

Shankhpushpihills 60 Capsule

Shankhpushpi extract

Smrutihills - Value Pack 900

Brahmi, Shankhpushpi, Mandukparnee, Jyotishmati, Vacha, Guduchi, Cow Ghee

Health Hunt Please change Orientation

Want to unlock the secrets of holistic health?

Yes, tell me more No, I like living in oblivion
3
Notifications Mark all as read
Loader Image
No notifications found !
3
Notifications Mark all as read
Loader Image
No notifications found !
हमारे साथ साझा करें
  • English
  • हिन्दी
  • सभी
  • पोषण
  • फ़िटनेस
  • आर्गेनिक ब्यूटी
  • मानसिक स्वास्थ्य
  • प्रेम
    • English
    • हिन्दी
Default Profile Pic

0 New Card

ट्रेंडिंग

ऑटिज़्म के प्रकार, लक्षण और रोकथाम Vallari Sharma Vallari Sharma
03 Dec 2018Array min read

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एएसडी) विकास से सम्‍बंधित आजीवन विकलांगता है जो दुनिया को समझने और दूसरों के साथ बातचीत करने से सम्‍बंधित व्‍यक्‍तियों के व्‍यवहार पर प्रभाव डालती है।

[:en]Autism Spectrum Disorder (ASD) is a lifelong developmental disability that affects how people perceive the world and interact with others. This development disorder is characterized by troubles with social interaction and communication and restricted and repetitive behavioural patterns. Experts believe that its signs are visible in the first three years of an individual’s life. According to the Indian Scale Assessment of Autism, there are approximately 2 million children suffering from autism in India.There are 3 main types of ASD:1. Asperger’s Syndrome (AS)This is the mildest form of autism and is often known as ‘High-Functioning Autism’. People with AS are of an average or above average intelligence and do not usually have the learning disabilities that many autistic people have. They often become obsessed with a particular object or subject, and they invest all their energy in that. People with this condition may be socially awkward and may exhibit repetitive behavioural patterns.2. Pervasive developmental disorder, not otherwise specified (PDD-NOS)PDD-NOS is often called atypical autism because it does not fully meet the criteria for autistic disorder. People with PDD-NOS have more learning difficulties as compared to people with AS but fewer than people with autistic disorder. However, their behaviour is less repetitive when compared to people with Asperger’s Syndrome and PDD-NOS.3. Autistic disorderThis is the most severe form of ASD, and people suffering from this disorder will have severe impairments. They have major learning disabilities and suffer problems with social interaction and communication. They exhibit extremely repetitive behavioural patterns. At times, they might even have mental seizures.CausesUntil recently, the causes of ASD were not known. In fact, the Government of India only recognized the disorder in 2001. While scientists are still trying to find a ‘the’ cause, they’ve discovered a few major factors that can result in a child being born autistic—including environmental, biological and genetic factors.
  1. There is no single gene or genetic defect that is responsible for autism. However, researchers suspect that there are a number of different genes which, when combined together, increase the risk of getting autism. It has been found that people who have a family history of mental disorders are more likely to have an autistic child. In a family with one autistic child, the chance of having another child with autism is quite high.
  2. In some children, autism is linked to an underlying medical condition—for example, metabolic disorders, congenital infections, genetic disorders, developmental brain abnormalities and neurological disorders acquired after birth.
  3. Environmental toxins, stress, parents’ poor lifestyle habits, their age at the time of conception, maternal illnesses during pregnancy, difficulties during birth and oxygen deprivation to the child’s brain are among many other factors which can contribute to the of this disorder.
  4. An injury or sickness during pregnancy can also lead to mental abnormalities in the child.
Everything You Want To Know About Autism -1SymptomsWe know that there are 3 types of ASD, and some symptoms vary from spectrum to spectrum, but there are some common symptoms that are visible across spectrums. A few common symptoms include the following:
  1. Delayed speech and language skills
  2. Avoiding eye contact
  3. Staring blankly at objects and people
  4. Not using gestures while communicating
  5. A flat and robotic voice
  6. Hypersensitivity to noise
  7. An inability to concentrate on a topic when talking, reading or studying
  8. Repetitive body movements and repeating sentences over and over
  9. Inability to make friends
  10. Hitting or biting their own selves
In most cases, children with ASD act in ways that seem unusual. They tend to have a short attention span and often get impulsive and aggressive without any provocation. They usually have underdeveloped cognitive and motor skills, and most of them experience difficulty in performing day-to-day tasks, such as eating, bathing, studying, calculating money and playing games.PreventionThere are various precautions parents can take to prevent autism in their children. These include:1. Less exposure to environmental toxinsAccording to a research conducted by The Harvard School of Public Health, the risk of developing autism doubles in an infant if the mother is exposed to excess pollution, especially in the third trimester. While scientists couldn’t really identify the particular pollutants that can affect the development of the foetus, they are of an opinion that pregnant women should try to stay indoors when pollution levels are high.2. Avoid consuming alcohol and taking drugs: Consuming alcohol and drugs during pregnancy can increase the risk of your child developing autism. The chemical properties present in drugs and alcohol can interfere with the development of a child’s brain and, hence, should be avoided at all costs. Everything You Want To Know About Autism - 23. Space out pregnanciesSpacing out pregnancies is very important. Studies have shown that children that were conceived within 12 months of the first pregnancy were 50 per cent more likely to develop autism. At least a period of 2 to 3 years must be maintained in between pregnancies to ensure that a healthy child is born.4. Intake of folic acid as per the doctor's prescription: It has been observed that pregnant women who take less than 400 to 800 mcg of folic acid, per day, may have a higher risk of giving birth to an autistic child.5. Regularly consulting a doctor: It’s significant for parents to consult a doctor before planning a baby and after getting pregnant. It’s important to check if a parent’s illness and any medications that they are on can interfere with the development of the child’s brain. While taking these precautions can reduce the chances of having an autistic child, these precautions are not foolproof, and your child can still be born with autism even after taking all the above precautions.

Everything You Want To Know About Autism-3

CureAs of date, there is no cure for autism. It’s a lifelong disorder. However, the symptoms can be controlled and improved by taking certain medications and therapies. It is also important to remember that autism has several spectrums, and no two children suffering from the disorder are the same. Every child with autism is on a different spectrum and, hence, shows different symptoms at different degrees, which, of course, will require different needs. However, an early intervention can prevent disabilities in infants as well as toddlers.Lastly, we need to understand that there is no stigma attached to mental disabilities. With cases of autism increasing every year, we need to talk about it and sensitize people towards those suffering from it. On the occasion of World Autism Awareness Week, observed between 26 March and 2 April, we request you to do your bit towards spreading awareness about autism. Even sharing this article will do, thank you![:hi]विकास से जुड़े इस विकार को सामाजिक बातचीत और संचार में आने वाली बाधाओं और सीमित तथा दोहराव वाले व्यवहार पैटर्न से पहचाना जाता है। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि इसके होने के संकेत किसी व्यक्ति के जीवन के पहले तीन वर्षों में दिखने लगते हैं। इंडियन स्‍केल असेसमेंट ऑफ ऑटिज़्म के अनुसार, भारत में लगभग 20 लाख बच्चे ऑटिज़्म से पीड़ित हैं।एएसडी मुख्‍य रूप से 3 प्रकार के होते हैं:
  1. एस्पर्जर सिंड्रोम (एएस)
यह ऑटिज़्म का सबसे दबा हुआ रूप है और इसे अक्सर 'हाई-फंक्‍शनिंग ऑटिज़्म' के रूप में जाना जाता है। एएस से ग्रसित व्‍यक्‍तियों में औसत या औसत से ऊपर बुद्धिमत्‍ता होती है और आमतौर पर इनमें सीखने को लेकर वैसी कोई अक्षमता नहीं होती है जो कई अन्‍य ऑटिस्टिक व्‍यक्‍तियों में पायी जाती है। वे अक्सर किसी विशेष वस्तु या विषय को दिल में बसा लेते हैं, और उसमें ही वे अपनी सारी ऊर्जा लगा देते हैं। ऐसे व्‍यक्‍ति सामाजिक रूप से अजीब लग सकते हैं और दोहराव वाले व्यवहार पैटर्न प्रदर्शित कर सकते हैं।
  1. व्यापक विकासात्‍मक विकार, अन्यथा निर्दिष्ट नहीं (पीडीडी-एनओएस)
पीडीडी-एनओएस को असामान्‍य ऑटिज़्म कहा जाता है क्योंकि यह ऑटिस्टिक डिसऑर्डर के मानदंडों को पूरी तरह से नहीं दर्शाता है। पीडीडी-एनओएस वाले व्‍यक्‍तियों को एएस के व्‍यक्‍तियों की तुलना में सीखने में अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, लेकिन ऑटिस्टिक डिसऑर्डर वाले व्‍यक्‍तियों की तुलना में कम होती हैं। हालांकि, एस्पर्जर सिंड्रोम और पीडीडी-एनओएस वाले व्‍यक्‍तियों की तुलना में ऑटिस्टिक डिसऑर्डर वाले व्‍यक्‍तियों के व्यवहार में कम दोहराव देखा जाता है।
  1. ऑटिस्टिक डिसआर्डर
यह एएसडी का सबसे गंभीर रूप है, और इस विकार से पीड़ित व्‍यक्‍तियों को कष्‍टप्रद दोषों का सामना करना पड़ता है। उनके पास सीखने को लेकर बड़ी अक्षमताएं होती हैं और सामाजिक बातचीत करने और संचार के मामले में समस्याएं आती हैं। वे बेहद दोहराव वाले व्यवहार पैटर्न प्रदर्शित करते हैं। कभी-कभी, उन्हें मानसिक दौरे भी पड़ सकते हैं।कारणअभी हाल तक एएसडी के कारण ज्ञात नहीं थे। वास्तव में, भारत सरकार ने भी इस विकार को 2001 में पहचाना। हालांकि वैज्ञानिक अभी भी 'कारण' ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं, फिर भी उन्होंने पर्यावरणीय, जैविक और जेनेटिक कारकों सहित कुछ प्रमुख कारकों की खोज की है जिसके कारण कोई बच्‍चा जन्‍म से ही ऑटिस्टिक हो सकता है।
  1. ऑटिज़्म के लिए कोई जीन या अनुवांशिक दोष ज़िम्मेदार नहीं है। हालांकि, शोधकर्ताओं को संदेह है कि कई अलग-अलग जीन हैं, जो जब आपस में मिल जाते हैं, तब ऑटिज़्म से ग्रस्‍त होने का जोखिम बढ़ जाता है। यह पाया गया है कि जिन व्‍यक्‍तियों का मानसिक विकारों वाला पारिवारिक इतिहास है, उनके बच्‍चों के ऑटिस्टिक होने की अधिक संभावना होती है। जिस परिवार में एक ऑटिस्टिक बच्‍चा हो, उस परिवार में, ऑटिज़्म से ग्रस्‍त दूसरा बच्चा होने की संभावना अधिक हो जाती है।
  2. कुछ बच्चों में, ऑटिज़्म का मामला चिकित्सा से सम्‍बंधित अंतर्निहित स्थिति से जुड़ा हुआ है - उदाहरण के लिए, चयापचय (मेटाबॉलिज्‍म) विकार, जन्मजात संक्रमण, आनुवंशिक विकार, मस्तिष्क के विकास से जुड़ी असामान्यताएं और जन्म के बाद पैदा होने वाले तंत्रिका संबंधी विकार।
  3. इस विकार को पैदा करने वाले कई कारकों में में निम्‍नलिखित शामिल हैं: पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थ, तनाव, माता-पिता की खराब जीवन शैली की आदतें, गर्भधारण के समय उनकी उम्र, गर्भावस्था के दौरान मो की बीमारी, जन्म के दौरान होने वाली कठिनाइयां और बच्चे के मस्‍तिष्‍क में ऑक्सीजन की कमी।
  4.  गर्भावस्था के दौरान चोट या बीमारी के कारण भी बच्चे में मानसिक असामान्यता पैदा हो सकती है।
image1लक्षणहम जानते हैं कि एएसडी 3 प्रकार के होते हैं, और कुछ लक्षण अलग-अलग स्‍पेक्‍ट्रम में अलग-अलग होते हैं, लेकिन कुछ सामान्य लक्षण हैं जो हर स्‍पेक्‍ट्रम में दिखते हैं। कुछ सामान्य लक्षणों में निम्नलिखित लक्षण शामिल हैं:
  1. बोलने में देरी और भाषा कौशल
  2. आंखों से संपर्क करने से बचना
  3. वस्तुओं और व्‍यक्‍तियों पर खाली नजरों से घूरना
  4. बातचीत करते समय इशारों का इस्‍तेमाल नहीं करना
  5. सपाट और रोबोट जैसी आवाज
  6. शोर के प्रति अतिसंवेदनशीलता
  7. बात करते समय, पढ़ने या अध्‍ययन करने के दौरान किसी विषय पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता
  8. शारीरिक हावभाव में दोहराव और बार-बार वाक्यों को दोहराना
  9. दोस्त बनाने में असमर्थता
  10. स्वयं को मारना या काटना
ज्यादातर मामलों में, एएसडी वाले बच्चे असामान्य लगने वाले हावभाव करते हैं। उनमें कम ध्यान देने की प्रवृत्ति होती है और अक्सर बिना किसी उत्तेजना के आवेश में आ जाते हैं और आक्रामक हो जाते हैं। उनका संज्ञानात्मक और मोटर कौशल आमतौर पर पूरी तरह से विकसित नहीं होता है , और उनमें से अधिकतर खाने, स्नान करने, अध्ययन करने, पैसे की गणना करने और गेम खेलने जैसे रोजाना के काम करने में कठिनाई का अनुभव करते हैं।रोकथामअपने बच्चों में ऑटिज़्म को रोकने के लिए माता-पिता कई सावधानियों पर ध्‍यान दे सकते हैं। इनमें निम्‍नलिखित शामिल हैं:
  1. पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थों के संपर्क में कम रहना : हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार, मां को, विशेष रूप से तीसरी तिमाही में, अधिक प्रदूषण के संपर्क में आने पर ऑटिज्‍म डबल्‍स होने का जोखिम रहता है। हालांकि वैज्ञानिक वास्तव में उन विशेष प्रदूषकों की पहचान नहीं कर पाये जो भ्रूण के विकास को प्रभावित कर सकते हैं, फिर भी उनकी राय है कि गर्भवती महिलाओं को बाहर प्रदूषण के उच्च स्तर होने पर घर में रहने की कोशिश करनी चाहिए।
  2. अल्कोहल लेने और दवाइयां लेने से बचें: गर्भावस्था के दौरान अल्कोहल और दवाएं लेने से आपके बच्चे को ऑटिज़्म होने का खतरा बढ़ सकता है। दवाओं और अल्‍कोहल में मौजूद रासायनिक गुण बच्चे के मस्तिष्क के विकास में रुकावट पैदा कर सकते हैं और इसलिए इनसे हर हाल में परहेज करना चाहिए।
image4

3. गर्भावस्था में समयांतराल रखें: गर्भावस्था में समयांतराल रखना बहुत महत्वपूर्ण है। अध्ययनों से पता चला है कि पहली गर्भावस्था के 12 महीनों के भीतर गर्भवती होने वाली महिला के बच्चों को ऑटिज़्म होने की संभावना 50 प्रतिशत अधिक थी। गर्भावस्था के बीच कम से कम 2 से 3 साल के समायांतराल को बनाये रखा जाना चाहिए ताकि स्वस्थ बच्‍चे के जन्‍म को सुनिश्चित किया जा सके।

4. डॉक्टर की सलाह के अनुसार फोलिक एसिड का सेवन: देखा गया है कि प्रतिदिन 400 से 800 मिलीग्राम से कम फोलिक एसिड लेने वाली गर्भवती महिलाओं में ऑटिस्टिक बच्चे को जन्म देने का उच्च जोखिम हो सकता है

5. नियमित रूप से डॉक्टर से परामर्श करना: बच्चे को जन्‍म देने की योजना बनाने से पहले और गर्भवती होने के बाद डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। यह जांच करना जरूरी है कि क्या माता-पिता की बीमारी और उनके द्वारा खायी जाने वाली दवा बच्चे के मस्तिष्क के विकास में रुकावट डाल सकती है।

हालांकि इन सावधानियों को बरतने से ऑटिस्टिक बच्चे होने की संभावना कम तो हो सकती है, लेकिन ये सावधानियां विश्‍वसनीय नहीं हैं, और उपरोक्त सभी सावधानियां बरतने के बाद भी आपका बच्चा ऑटिज़्म से ग्रसित हो सकता है।image3इलाजअभी तक ऑटिज़्म का कोई इलाज नहीं है। यह आजीवन रहने वाला विकार है। हालांकि, कुछ दवाओं और उपचारों से लक्षणों को नियंत्रित और कुछ सुधार किया जा सकता है। यह भी याद रखना जरूरी है कि ऑटिज़्म में कई स्पेक्ट्रम होते हैं हैं, और विकार से पीड़ित कोई भी दो बच्चे समान नहीं होते हैं। ऑटिज़्म वाला प्रत्येक बच्चा एक अलग स्पेक्ट्रम पर होता है और इसलिए, अलग-अलग स्‍थिति में अलग-अलग लक्षण दर्शाता है, जिसकी निश्चित रूप से अलग-अलग ज़रूरतें होंगी। हालांकि, शुरू में ही सावधानी बरतने से शिशुओं के साथ-साथ नन्‍हें बच्‍चों में भी विकलांगता को रोका जा सकता है।अंत में, हमें यह समझने की जरूरत है कि मानसिक अक्षमताएं कोई कलंक नहीं हैं। हर साल ऑटिज़्म बढ़ने के मामलों को देखते हुए, हमें इसके बारे में बात करने और पीड़ित व्‍यक्‍तियों के प्रति लोगों को संवेदनशील बनाने की आवश्‍यकता है। 26 मार्च से 2 अप्रैल के बीच मनाये गये, विश्व ऑटिज़्म जागरूकता सप्ताह के अवसर पर, हम आप से ऑटिज़्म के बारे में जागरूकता फैलाने की दिशा में अपना योगदान देने के लिए अनुरोध करते हैं। इस मामले में इस लेख को साझा करना भी महत्‍वपूर्ण योगदान होगा, धन्यवाद![:]
ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एएसडी) विकास से सम्‍बंधित आजीवन विकलांगता है जो दुनिया को समझने और दूसरों के साथ बातचीत करने से सम्‍बंधित व्‍यक्‍तियों के व्‍यवहार पर प्रभाव डालती है।
कैंसर की रोकथाम के लिए उपाय Mansi Kohli Mansi Kohli
20 Nov 2018Array min read

आपने शायद कैंसर की रोकथाम से जुड़ी सभी प्रकार की चीजों के बारे में सुना होगा। एक कैंसर अध्ययन के परिणाम दूसरे अध्ययन से एकदम अलग हो सकते हैं । हालांकि यह सच है कि कैंसर की रोकथाम के अध्ययन लगातार विकसित होते जा रहे हैं, इस तथ्य से कोई इंकार नहीं कर सकता कि जीवनशैली के विकल्प किसी को कैंसर होने की संभावनाओं को सीधे प्रभावित करते हैं।

[:en]You have probably heard about all sorts of things linked with cancer prevention. What one cancer study recommends might be totally contradictory to what the other suggests. While it’s true that cancer prevention studies are constantly evolving, one can’t deny the fact that the lifestyle choices one makes tend to directly impact the chances of developing cancer.So, the biggest good news is – you perhaps won’t get cancer.This is because you have a healthy lifestyle. You exercise well, maintain a healthy diet, and don’t smoke or drink excessively. However, recent researches have suggested many strategies in order to increase the chances of cancer prevention. They are:
  1. Your tap water must be filtered – This is because when you drink tap water directly, you might get exposed to suspected carcinogens and hormone-disrupting chemicals. Home-filtered water is anytime safer than tap water. Also, filtered water must be stored in stainless steel or glass bottles/jugs, in order to keep chemical contaminants such as BPA at bay, which can come in from plastic bottles.Reduce cancer risk
  2. Reduce cancer risk by a healthy diet – Consider eating plenty of whole grains, beans, and fresh fruits and vegetables. Limit the intake of processed meats, and opt for fresh fishes, along with drinking alcohol in moderation. Also, whenever you drink alcohol, infuse it with water instead of soda and colas, in order to keep yourself hydrated, while eliminating the intake of extra sugars. Say yes to extra-virgin oils such as olive oil, and make sure your daily diet contains a healthy amount of mixed nuts.
  3. Tobacco kills! – So does cancer. Hence, in order to avoid cancer, ditch that tobacco. This is because tobacco puts you on a collision course with cancer, such as those of the cervix, bladder, pancreas, lung, throat, and mouth.
  4. Breastfeed, if possible – Breastfeeding for a cumulative total of one year or more (meant for all the children) helps in lowering the risk of breast cancer in women. Not to forget, breastfeeding has other great health benefits for both mother and child, as it revs up the baby’s immunity to fight diseases and infections, while lowering the risk of asthma and allergies.risk of breast cancer
  5. Don’t depend heavily on post-menopausal hormones – This is because not taking them for a longer term helps in preventing chronic health conditions such as heart diseases, arthritis, and osteoporosis. Many studies have also shown that consuming post-menopausal medicines for a longer duration tends to increase oestrogen, along with oestrogen-plus-progestin – which further aggravates the risk of breast cancer.
  6. Delve deeper into your family history – even your dad’s – It is believed that about 8-10 per cent of cancer genes can be passed from one generation to another by a variety of mutated genes. Your father’s family history holds as much importance as your mother’s. Men can carry some aberrant genes, like BRCA1 and 2, which can lead to breast or ovarian cancer in women, and testicular and prostate cancer in men.
Apart from these, women should regularly check for skin moles that are irregular, large, or new. Do go for a clinical breast exam (CBE) every 3 years, right from your 20s onwards, in order to take proper precaution.[:hi]आपने शायद कैंसर की रोकथाम से जुड़ी सभी प्रकार की चीजों के बारे में सुना होगा। एक कैंसर अध्ययन के परिणाम दूसरे अध्ययन से एकदम अलग हो सकते हैं । हालांकि यह सच है कि कैंसर की रोकथाम के अध्ययन लगातार विकसित होते जा रहे हैं, इस तथ्य से  कोई इंकार नहीं कर सकता कि जीवनशैली के विकल्प किसी को कैंसर होने की संभावनाओं को सीधे प्रभावित करते हैं।तो, सबसे बड़ी खुशखबरी है - की आपको शायद कैंसर नहीं हो सकता।ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके पास स्वस्थ जीवनशैली है। आप अच्छी तरह से व्यायाम करते हैं, एक स्वस्थ आहार बनाए रखते हैं, और अत्यधिक धूम्रपान नहीं करतें, ना ही अत्यधिक मदिरा  पीतें हैं। हालांकि, हाल के शोधों ने कैंसर की रोकथाम की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए कई रणनीतियों का सुझाव दिया है। वे इस प्रकार हैं:
  1. आपके नल का पानी फ़िल्टर किया जाना चाहिए - ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आप सीधे नल का पानी पीते हैं, तो आप संदिग्ध कैंसरजनों और हार्मोन-बाधित रसायनों से अवगत हो सकते हैं। होम-फ़िल्टर पानी भी नल के पानी से सुरक्षित है। इसके अलावा, फ़िल्टर किए गए पानी को स्टेनलेस स्टील या ग्लास की बोतलों / जगों में संग्रहीत किया जाना चाहिए ताकि बीएपीए जैसे रासायनिक प्रदूषकों को दूर हटाया जा सके, जो प्लास्टिक की बोतलों से आ सकते हैं।Reduce cancer risk
  2. एक स्वस्थ आहार से कैंसर के जोखिम को कम करें - पूरे अनाज, सेम, और ताजे फल और सब्जियों का अधिक सेवन करें। संसाधित मांस के सेवन को सीमित करें, और संयम में अल्कोहल पीने के साथ ताजा मछलियों का चयन करें। इसके अलावा, जब भी आप अल्कोहल पीते हैं, सोडा और कोला के बजाए इसे पानी के साथ पिएं, ताकि आप अतिरिक्त शर्करा को कम कर पाएं। जैतून का तेल जैसे एक्स्ट्रा-वर्जिन तेलों को हाँ कहें, और सुनिश्चित करें कि आपके दैनिक आहार में मिश्रित नट्स की स्वस्थ मात्रा होती है।
  3. तम्बाकू मारता है! - कैंसर ही मारता है। इसलिए, कैंसर से बचने के लिए, तंबाकू को कुचलना आवश्यक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि तम्बाकू आपको कैंसर के साथ टकराव के पाठ्यक्रम पर रखता है, जैसे गर्भाशय, मूत्राशय, पैनक्रिया, फेफड़े और आपके गले और मुंह।
  4. स्तनपान, यदि संभव हो - एक वर्ष या उससे अधिक संचयी कुल स्तनपान (सभी बच्चों के लिए) महिलाओं में स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। यह नहीं भूलना, स्तनपान में माता और बच्चे दोनों के लिए अन्य महान स्वास्थ्य लाभ हैं, क्योंकि यह बीमारियों और संक्रमण से लड़ने के लिए बच्चे की प्रतिरक्षा को संशोधित करता है, जबकि अस्थमा और एलर्जी के जोखिम को कम करता है।risk of breast cancer
  5. रजोनिवृत्ति के बाद हार्मोन पर भारी निर्भर न करें - ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें लंबे समय तक नहीं लेना हृदय रोग, गठिया, और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों को रोकने में मदद करता है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि लंबी अवधि के लिए उपभोग करने वाली पोस्ट-मेनोपॉज़ल दवाएं एस्ट्रोजन-प्लस-प्रोजेस्टिन के साथ एस्ट्रोजेन में वृद्धि करती हैं - जो स्तन कैंसर के खतरे को और बढ़ा देती है।
  6. अपने परिवार के इतिहास में गहराई से डील करें - ऐसा माना जाता है कि लगभग 8-10 प्रतिशत कैंसर जीन एक पीढ़ी से दूसरे उत्परिवर्तित जीनों द्वारा पारित किया जा सकता है। आपके पिता के पारिवारिक इतिहास में आपकी मां के जितना महत्व है। पुरुष बीआरसीए 1 और 2 जैसे कुछ अबाधित जीन ले सकते हैं, जो महिलाओं में स्तन या डिम्बग्रंथि के कैंसर, और पुरुषों में टेस्टिकुलर और प्रोस्टेट कैंसर का कारण बन सकते हैं।
इनके अलावा, महिलाओं को नियमित रूप से त्वचा के तिलों की जांच करानी चाहिए जो अनियमित, बड़े या नए हैं। उचित सावधानी बरतने के लिए, अपने 20 के बाद से, हर 3 साल में नैदानिक ​​स्तन परीक्षा (सीबीई) के लिए जाएं।[:]
कैंसर की रोकथाम के लिए उपाय कैंसर की रोकथाम के लिए उपाय
आपने शायद कैंसर की रोकथाम से जुड़ी सभी प्रकार की चीजों के बारे में सुना होगा। एक कैंसर अध्ययन के परिणाम दूसरे अध्ययन से एकदम अलग हो सकते हैं । हालांकि यह सच है कि कैंसर की रोकथाम के अध्ययन लगातार विकसित होते जा रहे हैं, इस तथ्य से कोई इंकार नहीं कर सकता कि जीवनशैली के विकल्प किसी को कैंसर होने की संभावनाओं को सीधे प्रभावित करते हैं।
चॉकलेट में डूबी स्ट्रॉबेरी खायें Pooja Duggal Pooja Duggal
02 Dec 2018Array min read

मिठाई का हमेशा कैलोरी से भरा होना ज़रूरी नहीं है। यह बहुत आसान विधि है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट से भरी हुई स्ट्रॉबेरी है, तथा चॉकलेट और बादाम हैं।

[:en]This easy-peasy recipe is loaded with antioxidants from strawberries, and the chocolate and almond provide that kick!Serves 1Ingredients
  • 1 dozen whole strawberries
  • Dark chocolate slab
  • Almond shavings
Preparation
  • Place the dark chocolate in a pan and keep on low flame to melt.
  • Put the strawberries on a toothpick and dip inside melted chocolate.
  • Sprinkle almond shavings on top immediately and set to chill in the fridge.
  • Serve for dessert.
[:hi]एक को परोसें

सामग्री

  • एक दर्जन साबुत स्ट्रॉबेरी
  • डार्क चॉकलेट स्लैब
  • कतरे  हुए बादाम

तैयारी

  • एक पैन में डार्क चॉकलेट रखें और पिघलने के लिए कम लौ पर रखें।
  • स्ट्रॉबेरी को टूथपिक पर रखें और पिघला हुई चॉकलेट के अंदर डुबा दें।
  • तुरंत ऊपर कतरे  हुए बादाम डालें और फ्रिज में ठंडा और सेट करने के लिए रखें।
  • परोसें।
[:]
चॉकलेट में डूबी स्ट्रॉबेरी खायें चॉकलेट में डूबी स्ट्रॉबेरी खायें
मिठाई का हमेशा कैलोरी से भरा होना ज़रूरी नहीं है। यह बहुत आसान विधि है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट से भरी हुई स्ट्रॉबेरी है, तथा चॉकलेट और बादाम हैं।
Nutcase – Energy Bar Chetan Singh Chetan Singh
30 Aug 2018Array min read

A crunchy, nutty blend of Amaranth, heart healthy almonds, with apricots, golden raisins, dates , flax seeds and oats all mixed with the natural goodness of honey with a dash of organic coconut oil.

[:en]A crunchy, nutty blend of Amaranth, heart healthy almonds, with apricots, golden raisins, dates, flax seeds and oats all mixed with the natural goodness of honey with a dash of organic coconut oil.[:hi]A crunchy, nutty blend of Amaranth, heart healthy almonds, with apricots, golden raisins, dates , flax seeds and oats all mixed with the natural goodness of honey with a dash of organic coconut oil.[:]
Nutcase – Energy Bar Nutcase – Energy Bar
A crunchy, nutty blend of Amaranth, heart healthy almonds, with apricots, golden raisins, dates , flax seeds and oats all mixed with the natural goodness of honey with a dash of organic coconut oil.
Re-Lax Powder for Constipation Aadar Aadar
26 Sep 2018Array min read

Ayurvedic Powder for Relief from Constipation, Acidity and Gastric issues

[:en]Ayurvedic Powder for Relief from Constipation, Acidity and Gastric issues[:hi]Ayurvedic Powder for Relief from Constipation, Acidity and Gastric issues[:]
Re-Lax Powder for Constipation Re-Lax Powder for Constipation
Ayurvedic Powder for Relief from Constipation, Acidity and Gastric issues
क्या आप जानते हैं कि स्वास्थ्य से संबंधित कई सारे लेख नकली होते हैं? विश्वसनीय, जांचे-परखे तथ्य युक्त, और प्रमाणित लेख- सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए अभी साइन अप करें। यहां अपना ईमेल पता लिखें और सदस्यता लें/ सब्सक्राइब करें।

आपके लिए टॉप तस्वीरें

कार्ड लोड हो रहा है....

सबसे नया

कार्ड लोड हो रहा है....

क्या आप स्वास्थ्य
या कल्याण विशेषज्ञ हैं?

हमारे लिए लिखें

Dummy Card Dummy Card

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum

  6

पिछले सप्ताह

कार्ड लोड हो रहा है....

पिछले महीने

कार्ड लोड हो रहा है....

पुराने लेख

कार्ड लोड हो रहा है....

0 चयनित

healthhunt

We value your privacy

We and our partners use technology such as cookies on our site to personalise content and ads, provide social media features, and analyse our traffic. Click below to consent to the use of this technology across the web. You can change your mind and change your consent choices at any time by returning to this site.

Built byEngineer.ai

Ask the Experts

Some things to keep in mind

Have a question related to the following? We’d love to help. Please submit your query, and feel free to leave your name or choose the option of staying anonymous. If our team of experts are able to respond, you will be notified via email, and an article might be published with the response.



  • Nutrition
  • Fitness
  • Organic Beauty
  • Mental Wellbeing
  • Love
Cancel

Keep me anonymous. Cancel

Thank you! We look forward to answering your question.

All responses can be seen in the ‘My Hunts’ section.

Write for Us

Mental Wellbeing

Today, what we all need most is peace of mind, and mind you, it doesn’t come easy. To find tranquility, you must let go, and to learn to do that, you must embark on a journey for your own sake. We know that being healthy means so much more than just a healthy body. It means a healthy mind – a state of complete mental wellbeing. We welcome personal experiences, expert views, meditation techniques, and other holistic ways of achieving mindfulness.

Nutrition

The human body is perfectly designed by nature, and how we fuel it is important. In order to climb the Everest, backpack around the globe, get that promotion, break the world record for baking the largest apple pie, or anything else that you want to do in life – it is important that you and your body are on the same page. And surprisingly enough, of all aspects of health, nutrition is the most ignored or misinterpreted. No more fad diets, ‘magical detoxes’, or weight-loss powders. Nutrition is simple science...and lots of taste. Submissions within this category will include articles on health through foods, recipes, juices and smoothies, and natural and sustainable ways to achieve weight goals.

Fitness

We walk, run, swim, cycle, dance, workout – all to stay fit. Even though the end goals may be different for everyone, fitness, at the end of the day, means something that promises a healthy, fulfilling life. It means training your body to do better each day in whatever ways you want it to. Submit within this category if your article is to do with any form of physical fitness like yoga, running, muscle building, a success story, or any aspect of physical health.

Organic Beauty

Most of what you put on your skin is absorbed right into the bloodstream (Need proof? Think nicotine patches, or birth control patches). This is why a lot of the world is going back to their roots. Think organic. Think of all gifts of nature you could use, that could enrich your body, without all the chemicals and preservatives. Organic beauty is taking a stand for yourself – it is a lifestyle. If you have written about hair, skin, natural remedies, ayurveda, or alternate therapies, this is where you need to be.

Love

Love for a friend, family member, or lover – all such profound, complex emotions and connections. Oh love, love, love! It has the power to heal the soul, make a saint out of a criminal, and basically, just bring a smile to your face even on the most dismal of days. There are no rules, no laws, no policies, and absolutely no one manual when it comes to relationships. But oh, wouldn’t we all like a little help once in a while? Our broad categories include relationships, friendship, dating, sex, parenting, and other aspects of love.

Nutrition
Upload media Upload article Upload article
Cancel By pressing ‘Preview’ button, I agree to healthhunt’s quality content guidelines and I adhere to the terms and conditions and privacy policy.
Media Upload
Upload Media

Healthhunt currently supports media uploads in .jpg, .png, .mov, .mp4 formats. Recommended aspect ratio is 16:9
Article Upload
Upload Media

Healthhunt currently supports article uploads in txt, doc and docx formats. Kindly check our writing tips to get the most out of your articles.
by
0
Upload successful!

Thank you for your submission. Your post will be visible after approval from the healthhunt team.

All responses can be seen in ‘my hunts’ section. Cancel
Video Image